किशनगंज पंचायत समिति में मनरेगा बंद लोग कर गए पलायन

किशनगंज पंचायत समिति में मनरेगा बंद लोग कर गए पलायन

बारां 13 अक्टूबर। रामपुर टोंडिया ग्राम पंचायत में मनरेगा कार्य बंद होने से 200 लोग पलायन कर गए। लंबे से इस ग्राम पंचायत में मनरेगा कार्य नही चल रहा है। इस कारण क्षेत्र के सहरिया समुदाय के सामने रोजगार का संकट खड़ा हो गया। जाग्रत महिला संगठन की बलराम, कंचन बाई, गुलाब बाई, मीना बाई, जानकी बाई, भरोसी बाई, चिंजो बाई, कल्याणी बाई, बसंती बाई, मीरा बाई, रामकली बाई, बादाम बाई, शिमला बाई, विमला बाई, जानकी बाई, गुड्डी बाई, कैलाशी बाई ने बताया कि जनकपुर व रामपुर टोंडिया के सैंकड़ों परिवार रोजगार के अभाव में पलायन कर गए। इसी तरह गोरधनपुरा गांव से करीब 50 लोग पलायन कर गए। रामकलखन, धनराज, मिलन, हीरालाल, गुलाब, कन्या बाई, मुन्नी बाई, भगवती बाई, लुमा बाई, अर्जुन ने बताया कि मनरेगा बन्द होने से लोगो के पास रोजगार नही था। माधोपुर गांव से करीब 250 व्यक्ति पलायन कर गए। महावीर, कुलदीप, गुड्डी बाई, रुकमा, द्वारक्या, कुंती बाई, कन्या बाई, पवन, लोकेश, मंगल, रोहित, सोना ने बताया कि 8 माह से मनरेगा में रोजगार नही मिला है। इसी तरह खंडेला ग्राम पंचायत मुख्यालय से भी 200 के लगभग लोग रोजगार के अभाव में पलायन कर गये। इन गांवो के लोगो ने बताया कि रामपुर टोंडिया ग्राम पंचायत के गांवो में लंबे समय से मनरेगा का कार्य बंद होने के कारण लोगो को पलायन करने पर मजबूर होना पड़ा। लोगो ने बताया कि ग्राम पंचायत में आवेदन भी कर रखे है। उसके बाद भी मनरेगा में काम नही दिया जा रहा है। लोगो ने बताया कि जब भी काम मांगने जाते है तो यह बोलो जाता है कि तुम्हारे गांव में काम स्वीकृत नही है। वही टोंडिया पंचायत के ग्राम विकास अधिकारी से संपर्क किया तो उन्होंने फोन नही उठाया है। इस सम्बंध में विकास अधिकारी पहलाद राम डूडी ने बताया कि आवेदन आने पर ही मनरेगा का काम दिया जावेगा। ग्राम विकास अधिकारी को बोल दिया है कि डिमांड लेकर लोगो को काम दिया जाए। जाग्रत महिला संगठन के सुरेश सहरिया ने बताया कि इस पंचायत के गांवो में मनरेगा बन्द है। लोगो को मनरेगा में काम दिया जाए।

x

COVID-19

India
Confirmed: 34,175,468Deaths: 454,269