कन्या सुमंगला योजना को लेकर डीएम ने की समीक्षा बैठक

Spread the love
कन्या सुमंगला योजना को लेकर डीएम ने की समीक्षा बैठक
पात्र लोगों को जल्द मिले  लाभ, जमा आवेदन पर मांगी रिपोर्ट
मुजफ्फरनगर। बेटियों के लिए संचालित कन्या सुमंगला योजना के तहत कचहरी परिसर स्थित डीएम सभागार में समीक्षा बैठक हुई।   बैठक में जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे ने संबंधित अधिकारीयों को जल्द रिपोर्ट जमा कराने का आदेश दिया। उन्होंने कहा कि कन्या सुमंगला योजना एक अप्रैल से लागू कर दी गई थी, लेकिन सितंबर महीने में ऑनलाइन आवेदन करने के लिए साइट को एक्टिव किया गया था । इसके तहत जितने भी आवेदन अभी तक वेबसाइट https://mksy.up.gov.in के माध्यम से ऑनलाइन एवं जिला प्रोबेशन अधिकारी कार्यालय में जमा कराए गए हैं, उनकी जल्द से जल्द जांच कराकर रिपोर्ट प्रस्तुत करें ताकि बेटियों को लाभ दिया जा सके। इसके बाद जिला स्तर पर निर्धारित तिथि पर एक कार्यक्रम किया जाएगा, जिसमें अब तक पात्र लोगों को योजना के लाभ के संबंध में प्रमाण पत्र दिया जाएगा।
जिला प्रोबेशन अधिकारी आलोक वर्मा ने बताया जिले में अब तक 215 लोगों ने आवेदन किया है। विभाग को ऑनलाइन मिलने वाले आवेदनों को जांच के लिए बीडीओ और एसडीएम को भेजा जा रहा है। रिपोर्ट आने पर जिला स्तरीय समिति के अनुमोदन के बाद बेटियों को योजना का लाभ मिलना शुरू हो जाएगा। उन्होंने कहा एक अप्रैल के बाद जन्म लेने वाली नवजात (बालिका) के लिए कन्या सुमंगला योजना संचालित की गई है। योजना के तहत छह श्रेणियों में बच्ची को धनराशि दी जाती है, जिससे वह अपनी पढ़ाई कर सकती है।
सितंबर महीने में ऑनलाइन आवेदन करने के लिए साइट को एक्टिव किया गया था, जिसमें आनलाइन आवेदन किए गए। जिला प्रोबेशन अधिकारी कार्यालय में 79 आवेदन जमा कराए गए हैं। इनको ऑनलाइन करा दिया गया है।
योजना के अंतर्गत इन लोगों को मिलेगा लाभ:
लाभार्थी परिवार यूपी का रहने वाला हो। वार्षिक आय तीन लाख रुपये से अधिक न हो।
लाभार्थी के सिर्फ दो बच्चे हों। दो बच्चियों तक योजना का लाभ मिल सकेगा। यदि अनाथ बालिका को गोद लिया है तो भी दो बालिकाओं को ही लाभ मिलेगा।
यदि पहली बेटी है और दूसरे प्रसव में जुड़वा बेटियां हो रही हैं तो तीनों बेटियों को योजना का लाभ मिलेगा। बालिका के जन्म होने पर 2000 रुपये, एक साल की उम्र पूरी करने और सारे टीके लगने पर 1000, कक्षा एक में दाखिले के बाद 2000 रुपये दिए जाएंगे।
कक्षा छह में प्रवेश पर 2000, कक्षा नौ में प्रवेश पर 3000 और स्नातक स्तर पर दाखिले के बाद बालिका को 5000 रुपये दिए जाएंगे। कुल मिलाकर एक बालिका को योजना के तहत छह श्रेणियों में 15 हजार रुपये मिलेंगे।