जनपद मुजफ्फरनगर में योगी सरकार में अब साधु संत भी सुरक्षित नहीं है

Spread the love

साधु पर जानलेवा हमला

राजीव गोयल/मुज़फ्फरनगर

जनपद मुजफ्फरनगर में योगी सरकार में अब साधु संत भी सुरक्षित नहीं है ताजा मामला थाना भोपा क्षेत्र के तीर्थ नगरी सुकतीर्थ का है जंहा लगभग आधा दर्जन बदमाशों ने एक आश्रम में घुसकर साधु पर जानलेवा हमला कर घायल कर दिया। साधु को गम्भीर हालत में मुजफ्फरनगर के निजी अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती कराया गया । आश्रम में बदमाशों द्वारा लूट व जानलेवा हमले की घटना को लेकर संत समाज में भारी रोष व्याप्त है। पूर्व सैनिक स्वामी भजनानन्द के साथ घटी घटना को लेकर पूर्व सैनिकों की संस्था से जुडे सदस्यों में भारी रोष प्रकट करते घटना के शीघ्र खुलासे की मांग की है।

दरअसल जनपद मुज़फ्फरनगर में थाना भोपा क्षेत्र की  तीर्थनगरी शुकतीर्थ स्थित दुर्गा धाम कॉलोनी में तपोवन धाम के महन्त स्वामी भजनानन्द जी महाराज आश्रम में अकेले मौजूद थे। जानकारी के अनुसार देर रात दीवार फांदकर आधा दर्जन बदमाश आश्रम में घुस आये तथा स्वामी भजनानंद जी महाराज से बैंक से निकाली गई पेंशन की रकम की मांग करने लगे। साधु ने विरोध किया तो बदमाशों ने मारपीट करनी शुरू कर दी। सेना से रिटायर्ड वयोवृद्ध साधु ने साहस दिखाते हुए एक बदमाश की हाथ की अंगुली चबा दी, जिसके बाद बदमाशों ने उन्हें बुरी तरह मारा पीटा और अधमरा छोडकर भाग गए। शोर मचने पर पास के आश्रम के सन्त उधर दौडे तब तक बदमाश मौके से फरार हो गये। संतों द्वारा डायल 100 पुलिस को घटना की सूचना दी गयी। मौके पर पहुंची यूपी डायल 100 पुलिस द्वारा घायल संत को मोरना के सरकारी अस्तपाल में लाया गया, जहां से गम्भीर हालत के चलते घायल संत को मुजफ्फरनगर के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार वयोवृद्ध संत सोमवार को बैंक से अपनी पेंशन निकालकर लाए थे। आश्रम का सामान इधर उधर बिखरा पडा था। बदमाश नगदी व कीमती सामान चुराकर फरार हो गये। घटना को लेकर संत समाज व आर्य समाज में भारी रोष व्याप्त है। आचार्य गुरूदत्त आर्य के नेतृत्व में आर्य समाज के सदस्यों ने अस्पताल पहुंचकर स्वामी भजनानन्द का हाल जाना। वहीं वरिष्ठ भाजपा नेता डॉ. वीरपाल निर्वाल, जिला उपाध्यक्ष अमित राठी, डॉ. दिनेश धीमान, पं. रामकुमार शर्मा, पंकज माहेश्वरी, सुधीर प्रजापति ने घटना के शीघ्र खुलासे की मांग की है। क्षेत्राधिकारी भोपा राममोहन शर्मा व प्रभारी निरीक्षक एमएस गिल ने भी अस्पताल पहुंचकर संत से घटना की जानकारी की। स्वामी भजनानंद महाराज मूल रुप से बघरा क्षेत्र के गांव अमीरनगर के रहने वाले हैं जो सेना से रिटायर्ड होने के बाद वर्ष 1990 से तीर्थनगरी शुकतीर्थ स्थित तपोवन योग आश्रम बनाकर रह रहे हैं।