लैलूंगा एसडीएम की अफसरशाही अंदाज

Spread the love

*लैलूंगा एसडीएम की अफसरशाही अंदाज*

लैलुंगा

प्रथम व्यव्हार न्यायाधीश  न्यायालय घरघोड़ा द्वारा जारी किये गए स्थगन आदेश को दरकिनार कर वाद ग्रस्त भुमि में अधिकारियों द्वारा आवेदिका की खुंटी जमीन पर जबरन शासकीय भवन निर्माण का मामला सामने आया है।जिसमे विगत 8 जनवरी से स्थगन आदेश की कापी लेकर दर दर की ठोकरे खा रही   पीड़ित आवेदिका ज्योति अग्रवाल द्वारा सम्बंधित अधिकारियों पर न्यायायलय के आदेशों की अवमानना का आरोप लगाकर कार्यवाही की मांग की गई है।हालांकि इस संबंध में लैलुंगा एस.डी.एम द्वारा मामले को दुर्भवना पुर्ण बताते हुए पीड़ित पक्ष पर शासकीय जमीन पर जबरन कब्जे की बात कही गई है।पर मामला चाहे जो भी हो स्थगन आदेश के दस्तावेजो का अवलोकन करने पर प्रथम दृस्ट्रीया अधिकारियों द्वारा न्यायलय के आदेशों को नजर अंदाज करने की बात सामने आ रही है।गौरतलब है कि मामला तहसील मुख्यालय लैलुंगा का है जहाँ विगत सालों में प्रशासन द्वारा तहसील कार्यालय भवन हेतु राशी स्वीकृत किये जाने के बाद लैलुंगा से सटे ग्राम कुंजारा में कुछ दिन पहले तहसील भवन निर्माण का कार्य शुरू कर दिया गया।और इस दौरान आवेदिका द्वारा स्वयं को उक्त भुमि का स्वामी बताकर आपत्ति जताए जाने पर भी सम्बंधित ठेकेदार द्वारा एस.डी.लैलुंगा के आदेशों का हवाला देकर निर्बाध गति से काम चालु रखा गया।जिसके बाद आवेदिका ज्योति अग्रवाल द्वारा वकील के माध्यम से माननीय न्यायालय की शरण लेकर अपना पक्ष रखते हुए बताया कि खसरा नंबर 234/2 क रकबा0.809 हे.वादिनी के स्वामित्व की भूमि है। और संबंधित ठेकेदार द्वारा वादग्रस्त भुमि में ही 0.200 हे. भुमि पर नींव खोद कर कालम खड़ा किया जा रहा है।और ऐसे आवेदिका द्वारा न्यायालय से निवेदन कर वाद ग्रस्त भुमि पर कालम खड़े होने की स्तिथि में अपूर्णीय क्षति होने की बात रखते हुए न्याय की गुहार लगाई गई थी।जिसे सज्ञान में लेकर माननीय न्यायलय द्वारा उक्त प्रकरण  का अवलोकन करने पर वाद ग्रस्त भुमि पर चल रहे निर्माण पर विगत आठ जनवरी को 3/01/2019 तक स्थगन आदेश जारी किया जा चुका है।इस संबंध में आवेदिका का कहना है उसके द्वारा विगत चार दिनों से स्थगन आदेश की कापी एसडीऍम एवं तहसील कार्यालय में जमा करने की कोशिश किये जाने पर सम्बंधित अधिकारी कार्यालय में मौजुद नही रहते है।और कार्यालय में मौजुद बाबुओं द्वारा आदेश की कापी लेने से साफ इंकार कर दिया गया।और इसकी जानकारी ठेकेदार को देने के बावजुद सम्बंधित ठेकेदार द्वारा एसडीऍम लैलुंगा के निर्देशों का हवाला देकर काम जारी रखा गया है।और ऐसे में पिछले चार दिनों से सम्बंधित कार्यालयों का चक्कर काट रही आवेदिका ज्योति अग्रवाल द्वारा थक हार कर माननीय न्यायालय द्वारा जारी की गई स्थगन आदेश की कापी डाक के माध्यम से एस.डी.ऍम एवं तहसील कार्यालय को पोस्ट की गई है।

।।मामले में एसडीऍम लैलुंगा द्वारा पकड़ा गया आदिवासी युवक का गिरेबान थाने में एसडीऍम लैलुंगा के खिलाफ हुई लिखित शिकायत।।

उल्लेखनीय है कि इस मामले में जब आवेदिका द्वारा शनिवार की सुबह अपने कपडे की दुकान में कार्यरत खुलेश्वर पैकरा को मौका स्थल का मुआयना करने भेजा गया।तब वहाँ इनोवा में सवार लैलुंगा एसडीऍम अभिषेक गुप्ता द्वारा वहाँ पहुँचकर उक्त युवक का गिरेबान पकड़ कर उससे बदसलुकी करते हुए।उसे जेल भेजने की धमकी देकर वहाँ से तत्काल भाग जाने की बात कही गई।ऐसे में उक्त घटनाक्रम से भयभीत युवक द्वारा इसकी लिखित शिकायत थाना लैलुंगा में करते हुए अनुविभागीय दंडाधिकारी अभिषेक गुप्ता के खिलाफ कार्यवाही की मांग की गई है।ऐसे में आरोप संबंधी वीडियो शोशल मिडिया के जरिये वायरल होने के बाद सम्बंधित अधिकारी की सर्वत्र आलोचना की जा रही है।

उक्त भवन का निर्माण शासकीय भुमि पर ही किया जा रहा है।और सम्बंधित पक्ष द्वारा शासकीय भुमि पर कब्ज़ा करने की नियत से इस प्रकार का कृत्य किया जा रहा है।जबकि पुर्व में उनकी मौजुदगी में इसका सीमांकन किया जा चुका है।आप अपने अख़बार में छापिये।रही बात युवक के साथ बदतमीजी की तो आप  यहाँ आ कर बात करे आप को विस्तार से जानकारी देता हूं।
(अभिषेक गुप्ता एसडीऍम लैलुंगा)

विगत आठ जनवरी को आवेदन के आधार पर माननीय न्यायालय द्वारा स्टे आर्डर जारी किये जाने के बावजुद सम्बंधित अधिकारीयो द्वारा जानबुझकर कोर्ट के आदेशों की अवमानना करते हुए आर्डर की कापी लेने में आनाकानी की जा रही है।और कोर्ट के आदेशों के बावजुद निर्माण कार्य जारी है।ऐसे में मेरे द्वारा डाक के माध्यम से इसकी प्रतिलिपि एसडीऍम एवं तहसीलदार लैलुंगा को भेजी गई है।
(ज्योति विजय अग्रवाल आवेदिका)

शनिवार की सुबह दस बजे जब मैं मौके पर पंहुचा तो एसडीऍम लैलुंगा द्वारा मेरा गिरेबान पकड़कर मुझसे बदसलुकी करते हुए जेल भेजने की धमकी देने के साथ मुझे वहाँ से भगा दिया गया।जिसकी लिखित शिकायत मेरे द्वारा थाना लैलुंगा में की गई है।
(खुलेश्वर पैकरा पीड़ित )

मामला जमीन संबंधी है।और इस संबंध में युवक द्वारा एसडीऍम लैलुंगा के विरुद्ध लिखित शिकायत की गई है।मामले से उच्चाधिकारियों को अवगत करा उनके निर्देशानुसार आगे की कार्यवाही की जायेगी
(बोनिफेस एक्का टी आई लैलुंगा )

रिपोर्टर सतीश चौहान जी न्यूज इंडिया (खबर आप तक)